Universal Access To All Knowledge
Home Donate | Store | Blog | FAQ | Jobs | Volunteer Positions | Contact | Bios | Forums | Projects | Terms, Privacy, & Copyright
Search: Advanced Search
Anonymous User (login or join us)
Upload
Search Results
Results: 1 through 50 of 243 (0.257 secs)
You searched for: creator:"प्रफुल्ल कोलख्यान"
[1] 2 3 4 5     Next    Last
[texts]अस्मिता क्या और क्यों - प्रफुल्ल कोलख्यान
नव-सामाजिक आंदोलनों की खासियत यह है कि ये अस्मिता के सवाल को तो उठाते हैं, लेकिन उसके वर्गीय आधार को नकारते  हैं। बल्कि ये अपने को सामाजिक दायरे के नाम पर आर्थिक और राजनीतिक प्रसंग को अपने लिए ...
Keywords: कोलख्यान; अस्मिता; हिंदी; kolkhyan; alochana
Downloads: 30
[texts]गुजरात का अंतर्पाठ जनसत्ता - प्रफुल्ल कोलख्यान
गुजरात का अंतरपाठ...
Keywords: कोलख्यान; हिंदी; गुजरात; जनसत्ता.kolkhyan; gujrat; hindi; jansatta
Downloads: 6
[texts]ठीक नहीं जी, हाँ ठीक नहीं - प्रफुल्ल कोलख्यान
यह माना गहन अँधेरा हैयह भी कि दूर सबेरा हैपर चुप्पा-चुप्पी ठीक नहींमाथे पर धर हाथ बैठनाचुप रहना और सब सहनाठीक नहीं जी, हाँ ठीक नहीं 
Keywords: कोलख्यान; हिंदी; कविता; kolkhyan; hindi; kavita
Downloads: 12
[texts]लोग बेखौफ हैं - प्रफुल्ल कोलख्यान
लोग बेखौफ हैंउन्हें एक ही शिकायत थी फिलहाल किगुब्बारों के फूटने या फोड़ दिये जाने के बारे मेंकानूनी स्थिति उतनी साफ नहीं है इस मुल्क में
Keywords: कोलख्यान; हिंदी; कविता; kolkhyan; hindi; kavita
Downloads: 4
[texts]आलोचना की संस्कृति - प्रफुल्ल कोलख्यान
जीवन-विवेक न उभय-निष्क्रियता की बात करता है और न निष्पक्षता की। ऐसा इसलिए कि विषम समाज अपनी निर्मिति में ही पक्षपातपूर्ण होता है। पक्षपातपूर्ण वातावरण में, निष्पक्षता चालू पक्षपातपूर्ण व्य...
Keywords: कोलख्यान; संस्कृति; आलोचना; kolkhyan; hindi
Downloads: 30
[texts]साहित्य, समाज और जनतन्त्र - प्रफुल्ल कोलख्यान
यह सहज ही परिलक्षित हो जाता है कि विरोध या अंधविरोध की प्रवृत्ति से परंपरा  की जीवित और जीवनदायनी शक्ति की क्षयशीलता में उतनी वृद्धि नहीं होती है जितनी कि नासमझ परंपरा-प्रेम या-अंधप्रेम के आग...
Keywords: कोलख्यान; साहित्य; समाज; जनतन्त्र; kolkhyan
Downloads: 25
[texts]नव-नैतिकता की तलाशः गमे रोजगार भी, गमे इश्क भी - प्रफुल्ल कोलख्यान
अन्याय और अनैतिकता सहोदर हैं विषमता इनकी जननी है। अन्याय और अनैतिक स्थिति में मनुष्य जी नहीं सकता है इसलिए दुनिया मुट्ठी में करनेवालों को  भी कदम-कदम पर न्याय और नैतिकता की जरूरत होती है। इस ...
Keywords: कोलख्यान; नवनैतिकता; नैतिकता; समाज; हिंदी; kolkhyan; hindi; navnaikta
Downloads: 20
[texts]धरती की ओर से दी गई राहत - प्रफुल्ल कोलख्यान
बादलमौसम विभाग के वेतन पर पलता हैऔर मौसम विभागउनके द्वारा अदा किये गये टैक्स से चलता है
Keywords: कोलख्यान; कविता; हिंदी; kolkhyan; hindi; kavita
Downloads: 11
[texts]देश में जनादेश का संदेश - प्रफुल्ल कोलख्यान
भारत में जनतंत्र बहुत लंबे संघर्ष के बाद स्थापित हुआ है। जनतांत्रिक व्यवस्था में जनादेश का बहुत महत्त्व होता है। जनादेश को समझने में हुई चूकों की भारी कीमत समाज को चुकानी पड़ती है। यह कीमत त...
Keywords: कोलख्यान; हिंदी; जनादेश; kolkhyan; hindi
Downloads: 13
[texts]दूर के रिश्तेदार - प्रफुल्ल कोलख्यान
झुर्रियों की लिपि दर्द की भाषा पढ़ने की कोई तरकीब होती या रिश्तों की दूरी मापनेवाला कोई फीता होता तो कोई बड़ी आसानी से नाप ले सकता कि मैं और मेरे जैसे बहुत सारे बेटे अपने-अपने माँ-बाप के कितने द...
Keywords: कोलख्यान,हिंदी,kolkhyan,hindi
Downloads: 46
[texts]विचार, समाज और साहित्य - प्रफुल्ल कोलख्यान
कुछ विचारक जिन्हें हम उनकी तमाम भाव-भंगिमाओं और उछल-कूद के बावजूद साहित्यिक ही समझते हैं उनके खुद का दावा दार्शनिक होने का प्रतीत होता है और क्या पता वे हों भी! संक्षेप, में यहाँ हमारा आशय सिर्...
Keywords: कोलख्यान; विचार; समाज; साहित्य; आलोचना; kolkhyan
Downloads: 36 (1 review)
[texts]साहित्य सामज और जनतंत्र - प्रफुल्ल कोलख्यान
वस्तुत: साहित्य, समाज और जनतंत्र चक्रमान मानव-अस्मिता के समबाहु त्रिभुज की आधार-रेखाएँ हैं। इनमें से एक के भी अ-स्थिर या कंपित-झंपित होने से मानव विरोधी मानवीय प्रवृत्तियों की वैधता के लिए जग...
Keywords: कोलख्यान; हिंदी; साहित्; समाज; जनतंत्र; kolkhyan; hindi; sahitya; samaj; jantantra
Downloads: 25
[texts]जल बीच मीन पियासी - प्रफुल्ल कोलख्यान
यह बिल्कुल निराधार आशंका नहीं है कि जिनके हित में आंतरिक उपनिवेश का बने रहना ही जरूरी था उन्हीं के हाथों में बाहरी उपनिवेश से मुक्ति के नेतृत्व का होना इस आत्मघात का प्रमुख कारण बना। तात्पर्...
Keywords: कोलख्यान; स्त्री-विमर्श; आलोचना; हिंदी; kolkhyan; hindi
Downloads: 34
[texts]इनकार का हक और हक का इनकार - प्रफुल्ल कोलख्यान
मकान बनाने की ललक बढ़ी है। घर बसाने की ईहा कम हुई है। तलाक की घटना की संख्या में चिंतनीय वृद्धि हुई है। इन्हें जीवन-यापन में स्थायित्व के अवसरों की कमी से भी जोड़कर देखा जा सकता है। ......
Keywords: कोलख्यान; नैतिक; आलोचना; kolkhyan; hindi
Downloads: 20
[texts]हिंदी साहित्य, समाज और 1857 - प्रफुल्ल कोलख्यान
अपने अधिकांश में इतिहास लेखन की प्रक्रिया राजनीतिक प्रक्रिया की अधीनस्थ कार्रवाई है। इतिहास लेखन की इस ऐतिहासिक अधीनस्थता को समझने से यह बात ठीक से साफ हो पायेगी क्यों इतिहास-लेखन विजेता क...
Keywords: कोलख्यान; हिंदी; साहित्य; kolkhyan; hindi; 1857
Downloads: 35
[texts]भारत संघ की संरचना - प्रफुल्ल कोलख्यान
मुझे इस बात की चिंता हो रही है कि भारत संघ की आंतरिक संरचना में विघटनकारी बदलाव हो रहे हैं। भारत का संविधान एक विचार भी है और भावना भी।
Keywords: कोलख्यान; हिंदीसआलोचना; kolkhyan; hindi
Downloads: 7
[texts]इतिहास से आती लालटेनों की मद्धिम रोशनियाँ - प्रफुल्ल कोलख्यान
मानव सभ्यता की लंबी यात्रा में, अबौद्धिकता का जोखिम उठाते हुए भी, सुकुमार सपनों का सनातन निवास कविता ही रही है। कविता में जीवन के यथार्थ के प्रति सलूक का अपना सलीका होता है। हमारे समय में इस सभ...
Keywords: kolkhyan; hindi; vimlesh; कोलख्यान; आलोचना
Downloads: 25
[texts]उत्तर-औपनिवेशिक वातावरण में वि-उपनिवेशन की उत्तर-कथा - प्रफुल्ल कोलख्यान
जिस संघर्ष के सामने आज का मनुष्य खड़ा है उस संघर्ष में अब शायद किसी बाइपास के लिए कोई जगह नहीं बची है। जगह बची भी हो तो उसके बरताव से बचने के संदेश को सांस्कृतिक संदर्भ में प्रस्तुत किया जाना अल...
Keywords: kolkhyan; कोलख्यान; अलकासरावगी; उपन्यास; हिंदी
Downloads: 12
[texts]चिढ़ का चौताल - प्रफुल्ल कोलख्यान
अधिक पढ़े-लिखे आदमी का इतिहास से जो रिश्ता होता है, कम पढ़े-लिखे का वही नाता किंवदंतियों से होता है। कम पढ़ा-लिखा आदमी किंवदंतियों की चरितकथा की छानबीन में अपना वक्त जाया नहीं करता, प्रेरणा ले...
Keywords: कोलख्यान; kolkhyan
Downloads: 17
[texts]हिंदी जातीयता और समाज - प्रफुल्ल कोलख्यान
बंगाल और पंजाब का जहाँ भूगोल बँटा वहीं जिसे हिंदीभाषी क्षेत्र कहा जाता है उसकी भाषाएँ/ बोलियाँ प्रशासकीय स्तर पर व्यावहारिक रूप में स्थगित हो गई। इन भाषाओं/ बोलियों का यह स्थगन, भूगोल के बँटन...
Keywords: kolkhyan; hindi; कोलख्यान; हिंदी; जातीयता; रामविलासशर्मा
Downloads: 26
[texts]जीवन के दिन-रैन का, कैसे लगे हिसाब - प्रफुल्ल कोलख्यान
कभी-कभी छोटी मछलियों को निगलना जितना आसान होता है उसे हजम करना उतना ही मुश्किल होता है। बहुराष्ट्रीय पूँजी की दुष्टताएँ अंतत: राष्ट्रीय पूँजी को विषाक्त बना देती हैं। दक्षिणपंथ का भूमंडलीक...
Keywords: कोलख्यान; कट्टरता; अरुण; आलोचना; हिंदी; kolkhyan; hindi
Downloads: 28
[texts]हिंसा पर टिकी सभ्यता - प्रफुल्ल कोलख्यान
नागार्जुन जैसे बड़े कवि कहते हैं कि प्रति-हिंसा ही उनके कवि का स्थायी भाव है। ऐसा कहने के पीछे कवि की वेदना है, इसे उल्लास की तरह नहीं पढ़ा जाना चाहिए। यह एक गहरी बात है। इसे फूंक मार कर उड़ा देन...
Keywords: कोलख्यान; हिंसा; सभ्यता; kolkhyan; hindi; हिंदी
Downloads: 57
[texts]हमें जिंदा रहना है दुख पर काबू पाने के लिए - प्रफुल्ल कोलख्यान
मेरी बच्ची सुबह-सुबह मेरे लिए चाय बना रही हैबावजूद दुख के इससे अधिक खुशगवार सुबह मेरे लिए हो नहीं सकतीएक ऐसी सुबह जहाँ से अंधेरे के खिलाफ मद्धम-मद्धम आवाज आती होऔर चाय के खौलते पानी के साथ मेर...
Keywords: कोलख्यान; हिंदी; कविता; kolkhyan; hindi; kavita
Downloads: 15
[texts]गुजरात का अंतर्पाठ ग्रंथित - प्रफुल्ल कोलख्यान
बाहरी और भीतरी गुलामी को कारगर तरीके से लाने की प्रयोगशाला पूरी विकासशील दुनिया बनाई जा रही है। आज यह गुजरात में दीख रहा है, कल किसी दूसरी जगह दिखेगा। इस प्रयोगशाला से चाहे जो निष्कर्ष निकले ''...
Keywords: कोलख्यान; हिंदी; गुजरात; ग्रंथित; kolkhyan; hindi; gujrat; granthit
Downloads: 5
[texts]खिड़कियों से नहीं, जमीन से आसमान देखने की चाहत में कविता - प्रफुल्ल कोलख्यान
समय कठिन है। फिर भी ऐसा नहीं कि जीवन में आनंद बिल्कुल बचा ही न हो। चिंता की बात यह जरूर है कि आज जीवन में आनंद के आलोक की परिधि निरंतर छोटी होती जा रही है और आतंक के अंधकार का व्यास निरंतर बढ़ रहा ...
Keywords: kolkhyan; nilesh; hindi; कोलख्यान; कविता
Downloads: 18
[texts]दुःस्साध्य भाषिक कारीगरीः क़िस्सा कोताह - प्रफुल्ल कोलख्यान
जीवन में बदलाव की बयार बह रही है। साहित्य में इस बयार से एक नए तरह का वातावरण बन रहा है। विधाओं की परंपरागत सीमाएँ टूट रही हैं। इधर विधाओं के संदर्भ में यह सामान्य साहित्यिक प्रवृत्ति चलन में ...
Keywords: kolkhyan; hindi; कोलख्यान; राजेश; किस्सा; आलोचना
Downloads: 28
[texts]अब नहीं होती किसी से कोई शिकायत - प्रफुल्ल कोलख्यान
पहले होती थी बहुतअब नहीं होती किसी से कोई शिकायतन रूबल से, न डॉलर सेहाँ, तुम से भी नहीं और आप से भी नहीं
Keywords: कोलख्यान; कविता; हिंदी; kolkhyan; kavita; hindi
Downloads: 1
[texts]आँसू की छाया - प्रफुल्ल कोलख्यान
साहित्य के कमलवन में छिड़े गजग्राह युद्ध से बहुत दूर ऐसे संघर्षशील लोग कहीं भी मिल सकते हैं। गजग्राह युद्ध के बाहर यह पीपिलिका संघर्ष किसलिए जारी रहा करता है! क्या मिलता है? अभिव्यक्ति का सुख?...
Keywords: kolkhyan; Aasu ki chhaya; hindi; कोलख्यान; हिंदी; आँसू की छाया
Downloads: 7
[texts]प्रफुल्ल कोलख्यान की कुछ कविताएँ - प्रफुल्ल कोलख्यान
एक अच्छी कविता के बारे मेंसोचते हुएमैं आपके बारे मेंसोचने लगता हूँआपके बारे मेंसोचते हुए मैंएक अच्छी कविता के बारे मेंसोचने लगता हूँ
Keywords: कोलख्यान; कविता; kolkhyan; hindi
Downloads: 26
[texts]कैसे कहूँ, कह नहीं सकता, क्यों गंधमादन रोज दस्तक देता है - प्रफुल्ल कोलख्यान
किसके होने से कच्चे सपनों की मादक महक मुझे दीवाना बना देती हैकिसकी तलाश में मेरे आकाश का चाँद बादलों में सारी रात भटकता हैकिसकी पुकार पर खुशगवार चाँदनी मेरी आँखों में नंगे पाँव टहलती हैकौन ह...
Keywords: कोलख्यान; हिंदी; कविता; kolkhyan; hindi; kavita
Downloads: 11
[texts]रात की अंतिम गाड़ी के पीछे - प्रफुल्ल कोलख्यान
रात की अंतिम गाड़ी के पीछेरात की अंतिम गाड़ी के पीछे की भुकभुकाती लाल बत्ती जब धीरे-धीरेपुतलियों से ओझल होती जा रही हो ठीक उस समय कितना असहाय होता हैप्लेटफॉर्म पर खड़ा यात्री, स्तब्ध, बेचैन औ...
Keywords: कोलख्यान; हिंदी; कविता; kolkhyan; hindi; kavita
Downloads: 8
[texts]देश में जनादेश का संदेश जनसत्ता - प्रफुल्ल कोलख्यान
जनतंत्र में चुनाव से प्राप्त जनादेश मूलत: अस्थाई ही होता है। इस अस्थाई जनादेश के कई प्रभाव चिरस्थाई होते हैं। गुजरात के जनादेश को पढ़ने में होनेवाली चूक का खामियाजा देश को स्थाई रूप से भोगना ...
Keywords: कोलख्यान; जनादेश; हिंदी; गुजरात; kolkhyan; hindi; gujrat; jansatta; जनसत्ता
Downloads: 5
[texts]सभ्यता फिर भी उम्मीद से है - प्रफुल्ल कोलख्यान
बाजारवाद मछली के ही तेल में मछली को भुनने की कारीगरी जानता है। मकरजाल की तरह ‘मनुख-जाल’ उपभोक्ता मन के भीतर से पैदा होता है। …बाजारवाद की मनोरंजक संस्कृति हँसते-हँसाते मनुष्य की प्रतिरोध क्ष...
Keywords: कोलख्यान; सभ्यता; बाजारवाद; kolkhyan
Downloads: 46
[texts]केदारनाथ सिंह की कविता बाघ - प्रफुल्ल कोलख्यान
श्रीकांत वर्मा की कविता में यह बात रेखांकित है कि सुने जाने का रिवाज खत्म हो जाने पर सोचे जाने के अभाव का हाहाकार ही बचता है। केदारनाथ सिंह की कविता में नगरवासी सोचते हुए पाये जाते हैं-- नगरवास...
Keywords: कोलख्यान; केदारनाथ; बाघ; कविता; kolkhyan
Downloads: 35
[texts]आलोचना की संस्कृति - प्रफुल्ल कोलख्यान
जीवन-विवेक न उभय-निष्क्रियता की बात करता है और न निष्पक्षता का। ऐसा इसलिए कि विषम समाज अपनी निर्मिति में ही पक्षपातपूर्ण होता है। पक्षपातपूर्ण वातावरण में, निष्पक्षता चालू पक्षपातपूर्ण व्य...
Keywords: कोलख्यान; आलोचना; संस्कृति; kolkhyan; alochana; hindi
Downloads: 15
[texts]मन उढ़रल जाइ - प्रफुल्ल कोलख्यान
कहियो सोन त बूझै आखारलागए जेना, झूठक अवतारई है सरकार, हो उहे सरकारवोटवा के बतहा करए ब्यौपार
Keywords: कोलख्यान; कविता; हिंदी; kolkhyan; kavita; hindi
Downloads: 2
[texts]प्रफुल्ल कोलख्यान की कविता - प्रफुल्ल कोलख्यान
प्रफुल्ल कोलख्यान की कविता
Keywords: कोलख्यान,कविता,kolkhyan
Downloads: 14
[texts]अभी समर शेष है - प्रफुल्ल कोलख्यान
अनुभवसिद्ध बात है कि अर्थ का निजी स्वभाव ऊर्ध्वगामी होता है।जब तथाकथित नई अर्थनीति का भारत में प्रारंभ हो रहा था उस समय `ट्रिकिल डाउन' सिद्धांत की बड़ी चर्चा थी। इस सिद्धांत के अनुसार अर्थ का ...
Keywords: कोलख्यान; हिंदी; बाजारवाद; kolkhyan; hindi
Downloads: 22
[texts]फगुनवाँ में - प्रफुल्ल कोलख्यान
फगुनवाँ में, पोरे-पोर गुलाल लागेबुढ़िया के अजगुत श्रृँगार लागे होफगुनवाँ में, सब के गाते बयार लागे
Keywords: कोलख्यान; हिंदी; गीत; Kolkhyan; hindi; geet; फागुन
Downloads: 2
[texts]पुराने अंतर्विरोधों की नई जटिलताएँ - प्रफुल्ल कोलख्यान
क्षमता बढ़ने से `अंतर्निर्भरता' घटती है। अंतर्निर्भरता घटने से व्यक्ति के `नैतिक' होने की सामाजिक बाध्यता कम होती जाती है। विकास का समस्त `नैतिक-मूल्य' से विरत `क्षमता' से परिचालित होता है। क्ष...
Keywords: कोलख्यान; हिंदी; ग्रंथित; अंतर्विरोध; kolkhyan; hranthit
Downloads: 11
[texts]भारत भकोसवा ऐ रामा - प्रफुल्ल कोलख्यान
भारत भकोसवा ऐ रामाचैत महीनवाँ ऐ रामालह, लह लहकावै, लहर-लहरिया उठावैझर, झर, झहरावै लहरिया झरकौआ
Keywords: कोलख्यान; भारत; भकोसवा; कविता.हिंदी; kokhyan; hidi; bharat
Downloads: 3
[texts]Prafulla Kolkhyan TERAH KATHWA - प्रफुल्ल कोलख्यान
एक कहानीः तेरह कट्ठवा एक तरफ बाढ़ का पानी और दूसरी तरफ कुमिया की अधखुली आँख की कोर से ढरकते आँसू। उस आँसू की भाखा कौन पढ़े। जो पढ़े सो ज्ञानी होए। जनम कृतार्थ हो जाये। दोनो तरफ पानी-ही-पानी। पा...
Keywords: कहानी; कोलख्यान; hindi; kahani
Downloads: 23
[texts]यकीनन, समाधान है साहस - प्रफुल्ल कोलख्यान
हमारा नागरिक समाज एक नहीं है। दिल्ली का नागरिक समाज, मुंबई का नागरिक समाज, कोलकाता, चेन्नेई आदि के न सिर्फ नागरिक समाज अलग-अलग हैं, बल्कि इन नागरिक समाजों की हैसियत भी अलग-अलग है; मणिपुर, मेघालय ...
Keywords: kolkhyan
Downloads: 33
[texts]देश में जनादेश का संदेश - प्रफुल्ल कोलख्यान
गुजरात के जनादेश का एक पाठ राजनीतिक है, तो दूसरा पाठ सांस्कृतिक और सामाजिक भी है। राजनीतिक दल अपने हित साधन के लिए इसका राजनीतिक पाठ तैयार कर रहे हैं। हमारी चिंता इस जनादेश के सांस्कृतिक और सा...
Keywords: कोलख्यान; हिंदी; गुजरात; जनादेश; kolkhyan; hindj; gujrat
Downloads: 12
[texts]उत्तर-औपनिवेशिक वातावरण में वि-उपनिवेशन की उत्तर-कथा - प्रफुल्ल कोलख्यान
जिस संघर्ष के सामने आज का मनुष्य खड़ा है उस संघर्ष में अब शायद किसी बाइपास के लिए कोई जगह नहीं बची है। जगह बची भी हो तो उसके बरताव से बचने के संदेश को सांस्कृतिक संदर्भ में प्रस्तुत किया जाना अल...
Keywords: कोलख्यान; अलकासरावगी; कलिकथा; उपन्यास; आलोचना; kolkhyan
Downloads: 12
[texts]अंतिम क्षण में जनतंत्र - प्रफुल्ल कोलख्यान
बिना किसी आदर्श के, बिना किसी नायक के किसी सामाजिकता की गत्यात्मकाता में आत्मीयता का कोई प्रसंग नहीं जुड़ता है। इसका एक कारण यह है कि आदर्श और नायक से ही लोगों के मनोजगत का तादात्मीयकरण संभव ह...
Keywords: कोलख्यान; जनतंत्र; आलोचना; प्रेमचंद; रघुवीर; kolkhyan; hindi
Downloads: 29
[texts]बच्चा उदास है - प्रफुल्ल कोलख्यान
होशियार बच्चेतमीज दे रहे हैं किअपराध हैजाना इस खेल के खिलाफ
Keywords: कोलख्यान; कविता.हिंदी; kolkhyan; kavita; hindi
Downloads: 16
[texts]भारतीयता का सार - प्रफुल्ल कोलख्यान
उदारीकरण-निजीकरण-भूमंडलीकरण के इस दौर में भीतरी और बाहरी, अपने और पराये, स्थानिक और वैश्विक, तात्कलिक और शाश्वत, शक्ति और शील, सौंदर्य और शिव, नूतन और पुरातन के बीच के द्वंद्व, तनाव और संतुलन बि...
Keywords: kolkhyan; Hindi; Bhartiyta; Alochana
Downloads: 36
[texts]बाकलम खुद कुमारिल खुद प्रभाकर हिंदी के नामवर - प्रफुल्ल कोलख्यान
वस्तुत: आलोचना का काम साहित्य और संस्कृति में सक्रिय अंधबिंदुओं की पहचान और साहित्य और संस्कृति के उपादानों के सहारे ही अंधबिंदुओं को निष्क्रिय कर दृष्टिबिंदुओं को सक्रिय बनाने का है। बहैस...
Keywords: कोलख्यान; नामवर; आलोचना; kolkhyan; namvar; alochana; hindi
Downloads: 34 5.00 out of 5 stars5.00 out of 5 stars5.00 out of 5 stars5.00 out of 5 stars5.00 out of 5 stars(1 review)
[texts]ढूढ़ू पनाह क्या मतलब - प्रफुल्ल कोलख्यान
जब तू ही मेरा दोस्त नहीं रहा जालिम तो।अब किसी और से रस्मो-राह, क्या मतलब।।
Keywords: कोलख्यान; कविता; हिंदी; kolkhyan; kavita; hindi
Downloads: 3
[1] 2 3 4 5     Next    Last
Advanced search

Group results by:

> Relevance
Mediatype
Collection

Refine your search:

File formats
MP3 files
Any audio file
Movie files
Images

Related collections

opensource

Related mediatypes

texts

Terms of Use (10 Mar 2001)